fbpx

कहीं आप भी तो नहीं हैं HIV Aids के शिकार, जानें क्या है इसके लक्षण क्योंकि सतर्कता ही है इसका बचाव

  • HIV यानी की ह्यूमन इम्युनडेफिशिएंसी वायरस, जो कि आज के वक्त का सबसे घातक विषाणु है। शरीर में प्रवेश करते ही यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमताओं को कमज़ोर बनाने लगता है। पिछले कुछ दिनों में इसकी मात्रा बढ़ती नज़र आ रही है, अगर बात करें भारत की तो सबसे ज़्यादा एचआईवी के मरीज महाराष्ट्र व आंध्र प्रदेश में पाए गए हैं।
  • ऐसे में सावधानी बर्तना व बचाव करना बेहद ज़रुरी हो जाता है। आपको बता दें कि एक सर्वे के मुताबिक यह पाया गया है कि एड्स के शुरुआती स्टेज का पता नहीं चल पाता जिसके कारण पीड़ितों को सही वक्त पर इलाज नहीं मिल पाता और बात हाथ से निकल जाती है।
  • लेकिन ये तो हम सभी जानते हैं कि हर बीमारी या परेशानी के आने से पहले व्यक्ति को कुछ संकेत मिलते हैं, अगर वो उसे पहचान ले तो बीमारी वक्त पर पकड़ी जा सकती हैं। और उसी संकेत को नज़रअंदाज़ कर दिया जाए तो वही बीमारी जानलेवा बन जाती है। इसलिए हमें मालूम होना चाहिए कि एचआईवी होने से पहले शरीर में किस- किस तरह की समस्याओं व परेशानियां सामने आती हैं।

तो आइए जानते हैं एचआईवी के शुरुआती लक्षण –

  • बार- बार सर्दी- जुकाम व बुखार आना: एचआईवी का सबसे पहला लक्षण है कुछ- कुछ दिनों पर बुखार व दर्दी- ज़ुकाम हो जाना। कभी अचानक तेज़ी से बुखार हो जाना आदी।
  • अक्सर थकान होना: बिना किसी काम किए थकान महसूस करना एचआईवी के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं।
  • जोड़ो में दर्द व मांसपेशियों में खिचाव: कम उम्र में जोड़ो का दर्द कोई आम बात नहीं होती, अगर आपको भी अक्सर ऐसी शिकायतें रहती है तो आपको तुरंत डॉक्टर से जांच कराना चाहिए।
  • गला पकना: वैसे तो कम पानी पीने के कारण भी गला पकने लगता है, लेकिन सबकुछ ठीक होते हुए भी आपको हमेशा गले में खराश व पकन रहती है तो समझ जाए कि ये आपके लिए ठीक नहीं।
  • लगातार वज़न कम होना: अगर आपका वज़न धीरे- धीरे घटता जा रहा है तो आपके लिए यह बूरी खबर है, क्योंकि ऐसा अक्सर एचआईवी के मरीज़ो में देखा गया है कि उनका वज़न एकदम से कम ना होकर हर दिन थोड़ा- थोड़ा कम होता जाता है।
  • सिर में दर्द रहना: ऐसे में अक्सर व्यक्ति के सिर में दर्द रहता है। ये दर्द सुबह के वक्त कम हो जाता है लेकिन जैसे- जैसे सूरज ढलता जाता है दर्द भयानक रूप ले लेता है।
  • बिना वजह तनाव: हर बात पर या कभी-कभी बिना वजह तनाव होना, एचआईवी की और संकेत करता है।
  • त्वचा पर रैशेज व जलन: शरीर के किसी भी अंग पर लाल रंग के चक्ते- चक्ते होना व जलन होना, एचआईवी के लक्षण है।HIV यानी की ह्यूमन इम्युनडेफिशिएंसी वायरस, जो कि आज के वक्त का सबसे घातक विषाणु है। शरीर में प्रवेश करते ही यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमताओं को कमज़ोर बनाने लगता है। पिछले कुछ दिनों में इसकी मात्रा बढ़ती नज़र आ रही है, अगर बात करें भारत की तो सबसे ज़्यादा एचआईवी के मरीज महाराष्ट्र व आंध्र प्रदेश में पाए गए हैं।

loading...
Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!