fbpx

हींग:प्रजनन अंग,नशा,गर्भवती महिला,पेट व दाँत दर्द,दाद,खाज खुजली

हींग :
हींग कोई फल या फूल नहीं होती ,यह तो पेड़ के तने से निकली हुई
गोंद होती है। इसका पेड़ 5 से 9 फीट उंचा होता है। इसके पत्ते 1
से 2 फीट लम्बे होते हैं।
ये हींग इतने सारे रोगों में काम आती है कि आपको जानकार
आश्चर्य होगा। आइये कुछ महत्वपूर्ण उपयोगों के बारे में जान
लीजिये-
** यदि प्रजनन अंगों से सम्बंधित कोई भी बीमारी है तो 3
चुटकी हींग का चूर्ण सेकिये और 3 ही चुटकी इलायची दाने
का चूर्ण आग पर सेंक लीजिये और रोगी को दूध में मिला कर
पिला दीजिये।
** किसी महिला को अक्सर गर्भपात हो जाता हो तो यही हिंग
उसे रोकने में सक्षम होती है।गर्भवती महिला को चक्कर आने पर
या दर्द होने पर हींग को घी में सेंक कर तुरंत पानी से
निगलवा दीजिये।
** पेट में दर्द हो या कीड़े हों तो 3-4 चुटकी हींग का पाउडर
पानी से खाली पेट निगल लीजिये।
** कोई भी नशा विशेषतः अफीम का हो तो 2 ग्राम हींग
का चूर्ण दही या पानी में मिला कर पिला दीजिये।
** दांत में दर्द हो रहा हो तो वहाँ घी में तली हुई हींग दबाइए।
** घाव मे कीड़े पड़ जाएँ तो नीम के पत्तो के साथ हींग पीस
का घाव में लगाइए ,कीड़े तो मरेंगे ही घाव जल्दी भरेगा।
** आयुर्वेद में हींग को काफी गुणकारी माना जाता है बस एक
सावधानी रखिये की हींग हमेशा घी में
ही तली या भुनी जानी चाहिए

** दाद ,खाज खुजली में हींग को पानी में रगड़ कर लेप कर सकते
हैं।

error: Content is protected !!