fbpx

इन 5 चमत्कारिक पत्तियों से कैंसर भी नजदीक आने से खौफ खाता है.!!!

  • कैंसर एक जानलेवा बीमारी है, और इसका इलाज बहुत मुश्किल है। इसलिए हर वो कोशिश की जानी चाहिए जो हमारे लिए इस बीमारी का जोखिम कम करती हो। कुछ ऐसी औषधियां या हर्ब हैं, जो इसमें हमारी मदद कर सकती हैं। हर्बल मेडिसन – बायोमोलेक्यूलर एंड क्लिनिकल एस्पेक्ट्स किताब के दूसरे एडिशन के मुताबिक, हर्ब कैंसर से बचाव करने और कीमोथैरेपी के साइड इफेक्ट कम करने में मदद करते हैं। 

➡ आइये जाने इन 5 चमत्कारिक हर्ब्स के बारे में :

  1. तुलसी – कैंसर से बचाव के लिए सुबह तुलसी के पत्ते खाएं या सलाद व सूप में ताज़ी तुलसी मिलाएं। तुलसी के एंटीम्यूटैगेनिक और एंटीऑक्सीडेंट तत्व लीनालूल, यूजेनॉल और एस्ट्रागोल (linalool, eugenol and estragole) की उपस्थिति बढ़ाते हैं, और इस तरह ट्यूमर से बचाव में मदद करते हैं। ये लीवर कैंसर और ब्रेस्ट कैंसर से बचाव के लिए अच्छी है।
  2. धनिया – खाने में इस्तेमाल होने वाला धनिया कैंसर से बचाव भी करता है। इसमें मौजूद लीनालूल, लीवर में एंटीऑक्सीडेंट एक्टिविटी को बढ़ावा देते हैं, इससे लीवर डैमेज और कैंसर का जोखिम कम हो जाता है। ये लिपिड पेरॉक्सीडेशन को कम करता है जिससे भी कैंसर से बचाव होता है।
  3. सोआ – इसे पत्तेदार सब्जी की तरह भारत के कई हिस्सों में खाया जाता है, खासतौर पर महाराष्ट्र में। सोआ की पत्तियों में कैंसर-विरोधी तत्व होते हैं। इसमें मौजूद एनेथोफ्यूरन और कार्वोन जैसे तत्व फ्री-रेडिकल्स से बचाव करते हैं।
  4. रोज़मैरी – रोज़मैरी ऑयल की खुशबू बहुत अलग होती है, इसमें कार्नोसिक एसिड और सोज़मैरिनिक एसिड होता है जो कि शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट हैं। ये कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकते हैं। ये कीमोथैरेपी के बुरे असर से भी बचाता है। www.allayurvedic.org
  5. अजवायन – ये औषधी है जिसमें फेनॉलिक तत्व जैसे कि थाइमोल और कार्वाकरोल होते हैं जो इसे शक्तिशाली कैंसर-विरोधी बनाता है। अध्ययन बताते हैं कि सोआ लीवर कार्सिनोमा सेल और कोलोन एडेनोकार्सिनोमा सेल की ग्रोथ को रोकते हैं, और इस तरह लीवर और कोलोन कैंसर से बचाव होता है।
loading...
Share:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!