fbpx

आत्महत्या करने वाले व्यक्ति के मन को परिवर्तित कर, जीवन जीने की चाहत पैदा करेगी ये दवाँ, जरूर पढ़े और शेयर करे

➡ आत्महत्या से ऐसे बचे या बचाएं :

  • आज कल देखा गया है कि लोग डिप्रेशन (Depression) से जादा घिर गए है और जब यही डिप्रेशन जरुरत से जादा हो जाता है तो इन्शान निराश होकर आत्महत्या (Suicide) जैसा घातक कदम उठाने में भी नहीं हिचकता है इस संख्या का दिनों-दिन काफी इजाफा हुआ है समस्याओं से घिरा व्यक्ति सोचने समझने की शक्ति खोता जा रहा है वास्तव में जीवन से निराश लोग ही इस ओर प्रेरित होते है।
  • इसके मुख्यत:कुछ विशेष कारण है अधिकतर लोग प्रेम-प्रसंग में असफल होने पे या फिर घर-परिवार से परेशान होकर बेरोजगारी या इम्तहान, बिमारी आदि से परेशान होकर ये कदम उठाने को प्रेरित हो उठते है। www.allayurvedic.org
  • इसके अलावा भी अन्य कारण हो सकते है कुछ लोगों को संसार से विरक्ति सी होने लगती है कभी-कभी कुछ लोग तनाव से बाहर निकल आते है लेकिन जो लोग तनाव से नहीं निकल पाते है तो आत्महत्या (Suicide) जैसा कदम उठा लेते है।
  • होम्योपैथी उन कारणों को दूर तो नहीं कर पाती है लेकिन होम्योपैथी से उस व्यक्ति को निराशा से बाहर निकाल कर आत्महत्या जैसे विचारों को अवस्य दूर कर सकती है इससे उसका जीवन बच सकता है।
  • लक्षणों के आधार पर आप इस प्रकार किसी भी व्यक्ति की जान बचा कर पुण्य के भागीदार बन सकते है यदि कोई जीवन से निराश है और मरना चाहता है तो आप ‘Aurum-Mate’ की कुछ खुराकें दे उसकी आत्महत्या की इक्षा समाप्त हो जायेगी। यदि कोई जहर खा कर मरने का प्रयास करता है या फिर इक्षा जाहिर करता है आप उसे ‘China’ दे सकते है यदि कोई फांसी लगा के मरने को उत्सुक दिखे तो आप ‘Natrum Sulf’ दे सकते है। www.allayurvedic.org
  • कुछ लोग खुद को गोली मार देने की धमकी या फिर ऐसा प्रयास करने को उत्सुक दीखते है आप उन्हें ‘Anakardiam’ दें पानी में डूब कर जान देने की इक्षा जाहिर करने या प्रयास करने वाले डिप्रेशन (Depression) से ग्रसित व्यक्ति को ‘Antim Crude’ का प्रयोग कराये और ऊचाई से छलांग लगाने की या मरने की इक्षा वाले व्यक्ति को आप ‘Arjetikm nitricum’ दे सकते है।
  • इस पोस्ट को शेयर करना ना भूले क्योंकि इसका कोई पैसा नही लगता बल्कि आपका एक शेयर किसी की जान बचा सकता है।
Share:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!