fbpx

लाख कोशिश करता हु खाता रहता हु लेकिन वज़न नहीं बढ़ रहा , आपको भी यही शिकायत है तो इस पोस्ट को ज़रूर पढ़ें

लंबाई के हिसाब से वज़न सही होना फ़िज़िकल फ़िटनेस की निशानी है। अगर आपका वज़न लंबाई के हिसाब से कम है तो आप अंडर वेट कहे जाएंगे। आजकल हम अपने आस पास बहुत से ऐसे लोग देखते हैं जो या तो अपना मोटापा कम करना चाहते हैं या फिर अपना वज़न बढ़ाने के तरीके अपना रहे हैं। वज़न बढ़ाना हो या घटाना हो, दोनों काम मुश्किल हैं। दुबलेपन और वज़न कम होने का अर्थ है कि आपका इम्यून सिस्टम पर बाहरी इंफ़ेक्शन का असर जल्दी हो जाएगा। आप जल्दी जल्दी बीमार पड़ेंगे। इसलिए हम आपको वज़न बढ़ाने और मोटा होने के घरेलू उपाय बताते हैं।

आपने पहले पढ़ा है कि वज़न बढ़ाने के लिए क्या खाएं, वज़न बढ़ाने के लिए कौन सा योगासन करें और जिन लोगों को भूख कम लगती है वो मोटा होने के लिए भूख कैसे बढ़ाएँ। इस आलेख में हम पढ़ेंगे कि जल्दी वज़न बढ़ाने और मोटा होने के लिए घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे कौन से अपनाएं।  www.allayurvedic.org

वज़न कम होने के कारणवेट बढ़ाने से पहले उन कारणों का पता होना चाहिए जिनसे आपका वेट कम रहता है। ताकि हम समस्या के मूल जड़ को समाप्त करके सही परिणाम पा सकें।

– ख़राब पाचन तंत्र के कारण वज़न कम हो जाता है।
– शरीर में खून की कमी होने पर भी वज़न कम हो सकता है।
– किसी तरह का मानसिक और भाव्यात्मक तनाव भी वज़न कम करने के लिए उत्तरदायी हो सकता है।
– ज़्यादा शारीरिक श्रम या व्यायाम करने से भी व्यक्ति दुबला दिखता है।
– आनुवांशिक और हाइपर थायराइड के कारण भी वज़न घट जाता है।

वज़न बढ़ाने और मोटा होने के आयुर्वेदिक उपाय1. अंजीर और किशमिश खाएं6 सूखी अंजीर और 25 ग्राम किशमिश को शाम को पानी में भिगोकर रख दें और अगले दिन 2 बार में इसे खाएं। इस उपाय से आपका वज़न शर्तियां बढ़ेगा।  2. अश्वगंधा का सेवन करेएक गिलास गुनगुने दूध में 2 छोटे चम्मच अश्वगंधा का चूरन और मक्खन मिलाकर रात को सोने से पहले पिएं। इसे प्रयोग को करने से आपको कुछ दिनों में अंतर स्पष्ट नज़र आने लगेगा। अश्वगंधा चूरन आप बाबा रामदेव की पतांजलि शॉप या पंसारी की दुकान से खरीद सकते हैं। अश्वगंधा से शारीरिक लंबाई भी बढ़ती है।3. मुलेठी और सतावर का प्रयोगइम्यून सिस्टम के कमज़ोर होने कारण अगर दुबलापन है और वज़न बढ़ाने में बहुत परेशानी होती है। मुलेठी और सतावर रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और शरीर को स्वस्थ रखता है। जिससे आपका वेट कुछ दिनों में अपने आप बढ़ने लगता है।  4. दूध के साथ आम खाना 1 गिलास दूध के साथ आम खाना वज़न बढ़ाने और मोटा होने के लिए अच्छा उपाय है। इस उपाय को दिन में दो बार और एक महीना लगातार करना चाहिए। आपका वज़न दावे के साथ बढ़ जाएगा।

5. च्यवनप्राश खाएं

सिर्फ़ वज़न बढ़ाने के लिए ही नहीं बल्कि पूरे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आपको च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए। रोज़ दो चम्मच च्यवनप्राश खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और शरीर को ताकत मिलती है। इसे किसी भी उम्र के महिला और पुरुष दोनों खा सकते हैं।

बिना पेट बढ़ाये वज़न बढ़ाने का तरीक़ा

अक्सर हमने देखा है कि लोग दुबले पतले होते हैं, वो मोटा होने के लिए दिन रात मेहनत करते हैं और अपने प्रयासों में सफल भी हो जाते हैं। पर उनका पेट बाहर निकलने लगता है फिर उन्हें पेट कम करने के उपाय करने पड़ते हैं।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वेट गेन करने के लिए हम ऐसी चीज़ें खाते हैं जिनसे शरीर में ज़्यादा फ़ैट जमा होता है। लेकिन जाने अंजाने कुछ गलतियां ऐसी होती हैं जिनसे पेट के आसपास के भाग में फ़ैट जमा हो जाता है। इसलिए ज़रूरी है कि मोटा होने के उपाय करने के साथ-साथ योग और एक्सरसाइज़ भी की जाए। जिससे आपके पूरे शरीर का वज़न बढ़े न कि आपके पेट की चर्बी बढ़ जाए।

एक्सरसाइज़ कभी खाली पेट नहीं करनी चाहिए, एक्सरसाइज़ करने से पहले फ़्रूट्स, ड्राई फ़्रूट्स और मिल्क शेक जैसे एनर्जी देने वाली वस्तुओं का सेवन करना चाहिए। इससे हड्डियां मज़बूत होंगी और पेट की चर्बी नहीं बढ़ेगी।

वज़न बढ़ाने के लिए ज़रूरी बातें

मोटा होने के लिए अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव लाने आवश्यक हैं:


– ज़्यादा कैलोरी वाली वस्तुएं न खाएं पिएं

– चाय, कॉफ़ी की जगह जूस, लस्सी और शेक पिएं

– योग और व्यायाम ज़रूर करें

– टेंशन लेने से बचें

– दूध के साथ केला खाएं और बनाना शेक बना कर पिएं

– पानी अधिक पिएं और फल खाने की आदत डालें

– दूध में अंजीर, खजूर और बादाम उबाल कर खाएं

– जंक फ़ूड से परहेज़ करें

– वज़न बढ़ाने वाली दवाइयां कभी न खाएं          www.allayurvedic.org


मोटा होने के लिए सही डाइट खानी चाहिए। एक साथ पेट भर कर खाने की जगह दिन में थोड़ा थोड़ा करके कई बार खाना चाहिए। हर दो से तीन घंटे पर प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट वाली वस्तुएं खाते रहें।

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!