fbpx

नीम आयल से हर्निया का नामोनिशान मिट जायेगा ,पोस्ट को शेयर करना ना भूले

जिस व्यक्ति का अंडकोष बढ़ जाता है बोल चाल की भाषा में उसे हर्निया कहते है । अंडकोष के बढ़ जाने से बहुत ही तकलीफ होती है । यह रोग अनेक कारणों से होता है ।ज्यादतर यह रोग उन्ही लोगो को होता है जो लोग शरीर से मेहनत कम करते है आराम पसन्द होते है ।

ज्यादतर यह रोग सेठ लोगो को होता है ।इसमें आंतो में विस्तार की स्थिति उत्पन्न हो जाती है ।इसे अंडकोष बढ़ने लगते है । इसके बढ़ जाने से असहनीय पीड़ा होता है ।इसके लिए नीम का सेवन करे तो सारा कष्ट दूर हो जाता है ।


प्रयोग विधि :-

नीम की पत्ती 25 ग्राम एवं अमरबेल दोनों को गोमूत्र या बकरी के दूध में पीस कर मल्हम बनाले एवं अंडकोष पर लगाये ।एवं भोजन सादा एवं सुपाच्य ले । लाल मिर्च , तेल , खटाई आदि का सेवन न करे ।

इसके साथ ही कब्ज बनाने वाली भोज्य पदार्थो को न खाये क्योंकि कब्ज से वायु बनता है और इसे आतं को कष्ट होता है ।

www.allayurvedic.org 

इस मल्हम के लेप से कुछ ही दिनों में हर्निया ठीक हो जाता है ।

Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!