fbpx

रोज सुबह इसके सेवन से शारीरिक कमज़ोरी ख़त्म होगी, खून बढ़ेगा, हाथ-पैरों की जलन को ठंडा करता है तो झुर्रियों को मिटा कर त्वचा जवाँ बनाता है

गोंद कतीरा एक स्वादहीन, गंधहीन, चिपचिपा और पानी में घुलने वाला प्राकृतिक गोंद है। यह पेड़ से निकालने वाला गोंद है। इसका कांटेदार पेड़ भारत में गर्म पथरीले क्षेत्रों में पाया जाता है। इसकी छाल काटने और टहनियों से जो तरल निकलता है वही जम कर सफेद पीला हो जाता है यही गोंद कतीरा होता है।इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन और फॉलिक एसिड जैसे पोषक तत्व पाए जाते है, जो हमारे शरीर से जुड़ी कई समस्याओं से भी राहत दिलाने में मदद करते हैं। इसके सेवन करने से गर्मियों में लू से तो बचा जा सकता है साथ ही साथ हम कई कई रोगों से भी निजात पा सकते हैं। गोंद कतीरा का उपयोग कई प्रकार से किया जाता है जैसे दूध, आईसक्रीम और शरबत आदि में। आइए जानते हैं जानते हैं इसके सेवन से स्वास्थ्य को होने वाले फायदों के बारे में…

गोंद कतीरा के अद्भुत फ़ायदे :

  1. हाथ-पैरों में जलन : अगर हाथ-पैरों में जलन की समस्या हो तो 2 चम्मच गोंद कतीरा को रात को 1 गिलास पानी में भिगों दें, सुबह इसमें शक्कर मिला कर खाने से राहत मिलती है।
  2. एंटी-एजिंग : गोंद कतीरा आपकी त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद है और यह आपकी सुंदरता को बढ़ाता है गोंद कतीरा में एंटी-एजिंग गुण होते हैं ,जो झुर्रियों जैसी समस्या को दूर करता है।
  3. कमजोरी और थकान से छुटकारा : हर रोज सुबह आधा गिलास दूध में कतीरा गोंद और मिश्री डाल कर पीने से कमजोरी और थकान से छुटकारा मिलता है।
  4. माइग्रेन, थकान, कमजोरी, गर्मी की वजह से चक्कर आना, उल्टी : गोंद कतीरा के सेवन से माइग्रेन, थकान, कमजोरी, गर्मी की वजह से चक्कर आना, उल्टी आने पर आराम मिलता है।
  5. टांसिल : अगर आपको बार बार टांसिल की समस्या होती है तो 2 चम्मच गोंद कतीरा में धनिया के पत्तों के रस में मिलाकर रोजाना गले पर लेप करने से यह पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं।
  6. अल्सर : यह मुंह के अल्सर को ठीक करने में भी मदद करता है।
  7. पसीना ज्यादा आना : जिन लोगों को पसीना ज्यादा आता हो, उन्हें गोद कतीरा का सेवन करने से यह समस्या दूर हो जाती है।

इसे कहाँ से प्राप्त करे :
यह आपको पंसारी की दुकान पर बड़ी आसानी से मिल जाएगा, आपको दुकानदार को यह कहना है की हमें गोंद कतीरा चाहिए।

Share:

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!