जावित्री | Mace | Javitri

जावित्री को अंग्रेजी में मेस कहते है। इसका जैविक नाम मिरिस्टिका फ्रेगरंस है। जावित्री प्रकृति के दिए हुए कुछ वरदानों में से एक है।

Hair Regrowth Ayurvedic Way Songara All Ayurvedic

जावित्री को कई देशों की पाकशैली तथा औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है। यह बहुत पौष्टिक और प्रोटीन तथा फाइबर से भरपूर होती है। इसमें प्रचुर मात्र में औषधिक गुण है जिनकी वजह से ये आपके किचेन मे होनी चाहिए।

वैसे तो जावित्रि का इस्तेमाल खाने में स्वाद और खूशबू बढ़ाने के लिए किया जाता है लेकिन औषधीय गुणों से भरपूर जावित्रि से कई हेल्थ प्रॉब्लम को भी दूर किया जा सकता है। प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, आयरन, कॉपर, मैग्नीशियम और एंटीऑक्सीडेंट के गुणों वाली है।

यह जावित्री गठिया से लेकर दिल के रोगों को दूर करने में मददगार है। इसके अलावा इसका सेवन सर्दी-खांसी जैसी समस्याओं में भी फायदेमंद होता है। आइए जानते है रोजाना जावित्री का सेवन करने से किन बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है।

तो आइये बताते है आपको जावित्री की खूबियाँ

जावित्री का तेल मांसपेशियों और जोड़ो के दर्द में अत्यंत असरकारक होता है। यह एक शामक औषधि है। यह गठिया तथा कटिवात (lumbago) को ठीक करने के लिए बेहद उपयोगी है। चाइना में इसका प्रयोग पेट दर्द तथा सूजन की दवाओं मे किया जाता है।

जावित्री आपके पाचन तंत्र को ठीक रखती है। यह पेट की सूजन, कब्ज तथा अपच के लिए बहुत फायदेमंद होती है। जावित्री का प्रयोग डायरिया के इलाज के लिए भी करते है।

जावित्री रक्त संचार को बढ़ाती है। यह आपकी त्वचा और बालों को स्वस्थ रखती है। यह खतरनाक बिमारियों तथा इन्फेक्शन से बचाती है। यह डायबिटीज के लिए भी लाभदायक है।

जावित्री का एक औषधिक गुण किडनी की सुरक्षा करती है। यह शरीर में गुर्दे की पथरी बनने से रोकती है। और यदि आपको गुर्दे की पथरी है तो यह उसे धीरे धीरे खत्म कर देती है। किडनी की सफाई करने में बहुत फायदेमंद है। इसके लिए आप 2-5 ग्राम में इसका सेवन कर सकते है।

कैसे करें जावित्री का उपयोग

जावित्री के बीज, शहद तथा दालचीनी का मिश्रण : यह मिश्रण रोगाणुरोधी तथा किसी घाव की सड़न रोकने के लिए बहुत उपयोगी होता है। तीनो सामग्री को सामान मात्र में मिला कर हर सुबह इस मिश्रण को लगाएं। 10–15 मिनट रहने दें फिर ठन्डे पानी से धो दें। इससे कील- मुहांसों में भी आराम मिलता है। लटकती त्वचा जवाँ बनाएँ और ढीली त्वचा टाइट करे

जवित्री के बीज का पाउडर तथा दूध का फेशिअल : 1 चम्मच दूध (Toned milk तैलीय त्वचा के लिए तथा Full-cream milk रूखी त्वचा के लिए) में पाउडर को मिला लें। इसे रोज अपने चेहरे पर लगायें, 30 मिनट तक लगा रहने दें। फिर ठन्डे पानी से धो दें।

ह्रदय रोग के लिए उपयोगी : 10 ग्राम जावित्री, 10 ग्राम दालचीनी तथा 10 ग्राम अकरकरा को मिलाकर रख लें। इस चूर्ण को दिन में 3 बार शहद के साथ लेने पर ह्रदय रोग में निश्चय ही लाभ मिलता है।

दांतों के दर्द में : यदि आपके दांतों में दर्द हो रहा हो तो जावित्री, माजूफल तथा कुटकी को मिलाकर काढ़ा बना लें। गुनगुने काढ़े को थोड़ी देर मुह में रख कर कुल्ला करें। दिन में 2 बार ऐसा करें। दांत दर्द में बहुत आराम मिलेगा।

सर्दी-खांसी : सर्दी-खांसी, जुकाम, फ्लू को दूर करने के लिए जावित्री को पीसकर शहद में मिलाने के बाद गर्म पानी के साथ खाएं। इसका सेवन अस्थमा रोगियों के लिए भी फायदेमंद होता है।

पाचन तंत्र : कब्ज, उल्टी, दस्त और गैस की समस्याओं को दूर करने के लिए थोड़ी सी जावित्री का गर्म पानी के साथ सेवन करें। इससे कुछ मिनटों में ही आपकी परेशानी दूर हो जाएगी।

ayurvedic sex power, stamina