fbpx

इस बेल की पत्ती को पान की तरह चबाकर खाने से अस्थमा 3 दिन में घुटने टेक देता है, दमा जैसे भयंकर और कठिन रोग से पीड़ित रोगी को पूर्ण आराम मिल जाता हैं

कहते हैं के अगर किसी को दमा (अस्थमा या श्वांस रोग) हो जाए तो ये उसकी मौत के साथ ही जाता हैं। और फिर दमा का प्रकोप सर्दियों में अक्सर और भी बढ़ जाता हैं। मगर आज हम आपके लिए ले कर आये हैं एक ऐसा प्रयोग जो हमारे बहुत से भाइयो द्वारा अनुभूत हैं और अनेक लोगो का दमा इस से बिलकुल सही भी किया हैं, और अनेक वैध लोग भी इस प्रयोग को अक्सर इस्तेमाल करते हैं।

कैसे बनाये ये दवा:

  1. दमबेल (दमबूटी) का एक पत्ता ले इसको गोली की तरह बना कर इसमें एक काली मिर्च डालिये और पान की तरह चबा चबा कर सुबह खाली पेट खा लीजिये। ऊपर से थोड़ा गर्म पानी पी लीजिये। 
  2. कुछ देर में उल्टी हो सकती हैं, जो के एक अच्छा संकेत हैं। उलटी होगी और आपके शरीर में जमा हुआ कफ निकल जाएगा।
  3.  ये स्वाभाविक प्रक्रिया हैं घबराये नहीं, जब कफ निकल जाएगा तो उलटी अपने आप बंद हो जाएगी। इस प्रकार 3 दिन सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से दमा जैसे भयंकर और कठिन रोग से पीड़ित रोगी को पूर्ण आराम मिल जाता हैं। 
  4. अगर तीन दिन में इसका पूर्ण लाभ ना मिले तो इस प्रयोग को एक सप्ताह तक किया जा सकता हैं। इसके बाद रोगी को एक महीने तक घी, तेल व सभी प्रकार की खट्टी व् ठंडी चीजो से परहेज करना चाहिए।

loading...
Share:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!