घुटनों का दर्द अथवा जोडों का दर्द पाया जाना आजकल के इस युग में एक साधारण सी बात हो गई है। यह दिन-प्रतिदिन किसी भी उम्र के लोगों में पाये जाने वाली एक तेजी से बढती हुई स्वास्थ्य समस्या बनती जा रही है। जोडों के दर्द के निर्माण होने के विभिन्न कारण हो सकते है।

  • कभी कभी लंबे समय तक कुर्सी पर बैठने से भी घुटने अकड से जाते हैं तथा उनमें दर्द होने लगता है। कई बार यह दर्द अत्याधिक मात्रा में शारीरिक गतिविधियों के कारण उत्पन्न होने लगता है। 
  • जोडों का दर्द एक प्रकार का प्रकोप है, जो आजकल के छोटे उम्र के युवाओं को भी अपनी चपेट में लेने लगा है। यूँ तो घुटनों का दर्द पाये जाने के विभिन्न कारण हो सकते है। 

पर उन सभी कारणों में से एक मुख्य कारण है, शरीर में विटामिन डी, कैल्शियम तथा आयरन की कमी का होना। जिसकी वजह से अवश्य ही आपको घुटनों का दर्द होने की संभावना बढ जाती है।

Hair Regrowth Ayurvedic Way Songara All Ayurvedic

घुटने के दर्द के लक्षण :

  1. घुटनों का कठोर होना तथा उनमें एक प्रकार की शिथिलता का आ जाना।
  2. घुटनों में सूजन हो जाना।
  3. प्रभावित क्षेत्र में लालिमा का दिखाई देना।
  4. घुटनों को सीधा करने में असमर्थ होना।
  5. घुटनों पर अधिक दबाव या वजन के आने से तकलीफ होना।
  6. घुटनों में दर्द की वजह से कभी कभी बुखार भी आना।

दर्द दूर करने के घेरलू उपाय :

ayurvedic sex power, stamina
  1. एक गिलास गुनगुने पानी में थोडी सी ताजी अदरक घिसकर डालें तथा इस पानी का सेवन नियमित रूप से प्रतिदिन करें। घुटनों के दर्द में लाभ होने लगता है।
  2. घुटनों के दर्द वाले प्रभावित क्षेत्र में एरंडी के तेल से हल्की हल्की मालिश करें। तथा थोडी देर पश्चात् गर्म पानी से नहा लें। मालिश के लिए आप तिल का तेल अथवा राई का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  3. अलसी, अखरोट तथा तिल में कैल्शियम तथा विटामिन्स पर्याप्त मात्रा में पाये जाते हैं। इन चीजों का नियमित सेवन करने से घुटनों में पाया जाने वाला दर्द कम होने लगता है।
  4. हल्दी में रोगाणुरोधक होने की विशेषताएँ पाई जाती है। गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीने से यह जोडों के दर्द के असर को कम करता है। हल्दी एक उपचारात्मक तत्व होने के कारण यह घुटनों के दर्द को मिटाने तथा घाव भरने की प्रक्रिया की तेज करने में काफी सहायक मानी जाती है। हल्दीवाला दूध नियमित रूप से पीयें।
  5. हड्डियों के स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिये विटामिन सी अतिशय ही आवश्यक होता है। शरीर में विटामिन सी की कमी के कारण हड्डियों को कमजोरी की वजह से ही जोडों में दर्द भी होता है। संतरे में विटामिन सी की अत्याधिक मात्रा पाई जाती है। अतः संतरे के नियमित सेवन से जोडों के दर्द में काफी लाभ पहुँचता है।