fbpx

महाशक्तिशाली ऊर्जा से भरपूर इन लड्डू के सेवन से 80 वर्ष का बूढ़ा भी कहे की अभी तो में जवाँ हूँ, जरूर अपनाएँ और शेयर करे

हमारे बहुत से मित्र हमसे अक्सर वजन बढ़ानें और सेहत को बेहतर बनाने के लिये किसी प्रयोग के बारे में पूछते ही रहते हैं । हमने पहले भी कई बार काफी अच्छे प्रयोग अपडेट किये हैं और आज भी हम Allayurvedicके माध्यम से एक बहुत ही विशेष प्रयोग पोस्ट कर रहे हैं, विशेष इसलिये क्योंकि यह हमारा खुद बहुत से लोगो पर सफलतापूर्वक आजमाया गया प्रयोग है । खास बात यह कि इसको आप घर पर ही बना सकते हो । आइये पढ़ते हैं इस प्रयोग के बारे में….

➡ सबसे पहले नीचे लिखी सामग्री उल्लेख की गयी मात्रा में एकत्र करें :
1 :-सोयाबीन के दानें          –200ग्राम2 :-काला देशी चना           –200ग्राम3 :-उड़द की धुली दाल       –200ग्राम4 :-सौंफ                           –200ग्राम5 :-अजवायन                   –200ग्राम6 :-अश्वगंधा चूर्ण             –200ग्राम7 :-शतावरी चूर्ण               –200ग्राम8 :-बादाम की गिरी           –200ग्राम9 :-खाने वाली गोंद           –400ग्राम10 :-देशी खाण्ड़                –2किलो ग्राम11 :-गाय के दूध का घी ‌     – जरूरत के अनुसार
➡ बनाने की विधी :
सबसे पहले नम्बर1से नम्बर5तक लिखी चीजों को एक साथ मिलाकर मिक्सी आदि में बारीक पाउडर कर लें और फिर नम्बर6और नम्बर7की चीजों को भी मिलाकर एक साथ अच्छे से मिला दें ।बादाम की गिरियों को छोटे छोटे आकार में काट कर रख लें और देशी खाण्ड को भी अलग से कूटकर रख लें ।अब खानें वाली गोंद को थोड़ा दरदरा कूटकर कढ़ाही में में रखकर घी के साथ भून लें और अलग प्लेट में रख लें ।सबसे पहले नम्बर पर बनाया गया मिश्रण भी अब कढ़ाही में डालकर घी की जरूरी मात्रा मिलाकर सुनहरा होनें तक भून लें।अब इसको भी उतारकर ठण्डा होने के लिये रख दें ।जब ठण्डा हो जाये तो समस्त सामग्रियों को एक बड़े बरतन में ड़ालकर खूब अच्छे से मिलाकर बादाम की गिरियाँ भी मिला ले और समान आकार के80लड्डू बना लें ।

➡ सेवन विधी :
– 4से8साल तक के बच्चों को आधा आधा लड्डू सुबह और शाम को दूध के साथ रोज दें । 8से16साल तक के बच्चों को एक-एक लड्डू रोज सुबह और शाम को दूध के साथ देना चाहिये ।– 16साल से अधिक आयु के लोग एक दिन में अधिकतम चार लड्डू का सेवन कर सकते हैं ।यह लड्डू स्त्री और पुरुष दोनों ही सेवन कर सकते हैं। 

➡ विशेष नोट :

ये सभी सामग्री आपको अपने आस-पास किसी जड़ी-बूटी वाले पंसारी की दुकान पर मिल जायेंगी । देशी खाण्ड किराने की दुकान पर अथवा हलवाई के पास आसानी से मिल जाती है।

Share:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!