आप में से बहुत सारे लोगों के रसोई घर में अलसी और लौंग पहले से ही मौजूद होंगी|इन दोनों को मिलाने से हेरान करने वाले नतीजे देखने को मिलते हैं| ये चर्बी को पिघला देगा वो भी चमत्कारी ढंग से|

Hair Regrowth Ayurvedic Way Songara All Ayurvedic

आम तौर पर लोगों को लगता है शरीर में जमा उर्जा हे शारीरिक वसा है जिसको पिघलाने के लिए एक आहार का पालन करना ज़रूरी है|जब के हकीक़त में और भी बहुत कुछ करने की ज़रूरत है |शरीर में उर्जा के और भी स्रोत होते हैं जो चर्बी के जमा होने या पिघलने में ख़ास भूमिका निभाते हैं|

शरीर में उर्जा दो मुख्य स्रोत होते हैं प्रोटीन और स्टार्च |शरीर के इनको इस्तेमाल करने के तरीके से ही ये पता चलता है के शरीर में चर्बी किस तरह इस्तेमाल हो रही है |

अगर आपको कभी कभी मीठा खाने के इच्छा होती है तो उसको ख़त्म किया जा सकता है लेकिन अगर आपको बार बार मीठा खाने के चाहत हो और मीठा खाने से भी चाहत कम न हो तो इसका मतलब या तो आपको उच्च स्तर का तनाव है या फिर आपके शरीर में परजीवी हैं| बार बार होने वाली cravings इन अनचाहे परजीवी की वजह से हे होती है|

आवश्यक सामग्री :

100 ग्राम अलसी

10 ग्राम सूखे लौंग

बनाने की विधि और सेवन : 

ayurvedic sex power, stamina

ग्राइंडर की मदद से दोनों चीज़ों को पीस कर पाउडर बना लें | 3 दिन तक सुबह 1 चमच इस मिश्रण के लें | आप इसे पानी या नाश्ते में मिला कर भी ले सकते हैं|

आपको ये औषधि 3 दिन तक लेनी है फिर 3 दिन तक अन्तराल डालना है | 3 दिन बाद दोबारा इसे लेना शुरू करें और एक महीने में आपको इसका असर दिखाई देने लगे गा |

इसके साथ साथ विटामिन्स और खनिज भी सही मात्रा में लेना बेहद ज़रूरी है | इनकी सही मात्रा आपको आपको कसरत करने और सक्रिय रहने में मदद करती है|

अलसी खाने के अन्य फायदे :

वजन पर काबू करे : यह लिग्निन और ओमेगा-3 चर्बी को जमा होने से रोकते हैं और शरीर को चुस्त बनाते हैं। यदि आपका काम ऐसा है कि आप उठकर एक्सरसाइज तक के लिए समय नहीं निकाल पाते/ती, तो ऐसे में आपको अलसी का सेवन करना अपने रूटीन में शामिल कर लेना चाहिए। इससे आपको अपने वजन को नियंत्रित करने में काफी मदद मिलेगी। खाना खाने  लगभग 1 घंटे पहले 1 से 11/2 tsp अलसी अच्छी तरह चबा चबा कर खायें और ऊपर से एक गिलास पानी पी लें, आधे घंटे बाद फिर एक गिलास पानी पियें। इससे आपको अपना पेट एकदम भरा हुआ महसूस होगा और आप खाना कम खाएंगे।

पाचन सुधारे : अगर आप अक्सर कब्ज़ से परेशान रहते हों और हाज़मा खराब रहता हो तो ऊपर दी गई विधि से अलसी का सेवन आपके पाचन को सुधारने में बहुत मददगार होगा। लेकिन याद रखें की पानी अधिक मात्रा में पीना न भूलें।

दमा रोग में असरदार : अलसी में दमा रोग पर असर दिखाने के गुण मौजूद हैं। यदि आप दमा से पीड़ित हैं तो इसके लिए अलसी के बीज को पीस कर पानी में मिला दें और 10 घंटों के लिए छोड़ दें। इस पानी को नियमित रूप से दिन में तीन बार लेने से दमा कम हो जाता है। इसके साथ ही इस पानी से आपको खांसी में भी राहत मिलेगी।

हाई कोलेस्ट्रोल लेवल कम करे : अलसी में मौजूद फाइबर चर्बी और कोलेस्ट्रोल को शरीर के द्वारा अवशोषित होने से रोकते हैं जिससे यह शरीर में कोलेस्ट्रोल लेवल को कम करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही अलसी के बीज हाई ब्लडप्रेशर में भी फायदा पहुंचाते हैं।