fbpx

ककड़ी के औषधीय प्रयोग:आतों के घाव और अल्सर

– सब्जी के रूप में इस्तेमाल करने पर पथरी होने की संभावना नहीं रहती. गर्मियों में ठंडक देती है .

छौंक लगाना यानी संस्कृत में संस्कारित करना है . यह एक वैज्ञानिक पद्धति
है जिससे उसके गुण बढ़ते है और दोष कम होते हैं . इसलिए इतना मसाला 
भी नहीं डालना चाहिए की इसके मूल गुण समाप्त हो जाए .

– इसकी सब्जी पेट की समस्याओं में लाभदायक हैं
– जब खाना हो तुरंत काट कर खाए. ज़्यादा देर काट के रखा हुआ सलाद खाना स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं .

– पहले से इस पर नमक डाल के रखने से इसके स्वाभाविक गुण नष्ट हो जाते है . इसलिए अलग से नमक ले और काटी हुई ककड़ी को लगा कर खाए .
– जले हुए पर लगाने से तुरंत आराम मिलता है .
– त्वचा पर लगाने से झाइयाँ समाप्त होती है .
– इसका बीज पौष्टिक होता है और ठंडाई में भी डलता है .
– इसका सेवन सुबह धुप चढ़ने से पहले करना चाहिए .तब ये किडनी की सफाई कर देती है .
– रात में या शाम को इसका सेवन करने से वायु बनती है और कफ़, अफारा हो सकता है .
– १ ग्रा .
ककड़ी के बीज और ४ ग्रा . मुलेठी पावडर रात में मिटटी के पात्र में आधा ली .
पानी में भिगो के रखे . इसका सुबह सेवन करने से आतों के घाव और अल्सर तक
ठीक हो जाता है .

– इसकी जड़ को गर्भवती माताएं पेट दर्द में इस्तेमाल कर सकती हैं .यह शीतल और सौम्य है .
– सुबह सुबह बिना नमक ककड़ी चबा चबा कर खाने से ब्लड प्रेशर नियंत्रित होता है .
– कच्चा -पका एक साथ नहीं खाना चाहिए . इसलिए सलाद खाने के साथ नहीं पहले खाना चाहिए . इससे वजन भी कम होगा .
– सलाद या रायता खाने के बाद तुरंत पानी या दूध नहीं पीना चाहिए .

Share:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!