fbpx

रात को सोते समय तकिया लगाना कितना ज़्यादा हानिकारक है, ये जान गये तो आज से इसका उपयोग करना छोड़ दोगे

नमस्कार दोस्तों एकबार फिर सेआपकाAll Ayurvedic में स्वागत है आज हम आपको तकिया लगाने के हानिकारक प्रभाव के बारे में बताएँगे। वर्तमान की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में थकान के बाद रात को चैन की नींद बहुत ही आवश्यक होता है। चैन की नींद के लिए एक आरामदायक और मुलायम तकिया होना भी बहुत आवश्यक होता है। कुछ लोगों को तो तकिये के बिना नींद ही कतई नहीं आती है।

  •  तकिया आपके बिस्‍तर का ऐसा अभिन्न हिस्‍सा है जिससे चैन और सुकून की नींद आती है। तकिये के बिना सोना थोड़ा बहुत मुश्किल होता है। तकिया जितना मुलायम होता है, उतनी ही अच्छी नींद भी आती है। लेकिन अगर हम तकियों का ठीक से रख-रखाव न करें तो यह गंभीर बीमारी भी दे सकती है। 

तकिये की सफाई पर उचित ध्यान नहीं देने पर इंफेक्शन, दर्द और नींद न आने जैसी गंभीर समस्याएं हो सहती है।

ध्यान में रखें ये बातें :

1. तकिया अगर पुराना हो चुका है तो पहले यह देख लें कि उस पर कितनी गंदगी जमा है। इसके अलावा आपको सोते वक्त इससे तो गंभीर परेशानी तो नहीं होती।
2. मेमरी फोम तकिया भी बहुत आरामदेह होता है, क्योकि ये लेटने पर सिर और गर्दन कि शेप खुद बना लेती है।
3. लैटेक्स तकिया बहुत आरामदायक होता है, इन्हे आप 10-15 साल तक भी इस्तेमाल कर सकते है।
शरीर में फैट बर्निंग प्रोसेस की गति को बढ़ाता है ये पदार्थ
4. पॉलिएस्टर सबसे मशहूर और सस्ता होता है क्लस्टर युक्त इन तकियों को आप वाशिंग मशीन में धो सकते है। इसको दो साल में बदल लेना चाहिए।
5. इसके कवर का भी ध्यान रखें। कवर ऐसा हो जिससे धूल-मिट्टी अंदर तक न पहुंचे। बेहतर होगा कि इसे कुछ कुछ दिन पर धोते रहे।

loading...
Share:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!